Thursday, 25 June 2015

STOP DANDRUFF - NATURAL SOLUTION FOR FLAKY AND ITCHY SCALP(डैंड्रफ से बहुत परेशान हैं तो यह उपाय आजमाएं)

डैंड्रफ कहो या रूसी यह एक बहुत आम समस्या है। इसका मुख्य कारण है आज का खान पान जो आये दिन बिगड़ता ही जा रहा है। हम रोज़ जंक फ़ूड या तला भुना खाना खाते हैं। और हमारे शरीर के लिए फायदेमंद कोई भी आहार नहीं खाते हैं। जिसे सबसे ज्यादा नुकसान हमारे बालों को होता है। जिसकी वजह से बालों में रुसी होने लगती है। रुसी होने के लक्षणों के बारे में आइये जानते हैं। रूसी हटाने के 20 घरेलू नुस्खे रूसी के लक्षण :-



1.      सर में खुजली: जब रुसी होना शुरू होती है तो सबसे पहले सर में खुजली होना शुरू हो जाती है। दरअसल, डैंड्रफ हमारे सिर की त्वचा में स्थित मृत कोशिकाओं से पैदा होती है। डैंड्रफ से सिर में खुजली रहती है और बाल गिरने लगते हैं। यह ज्यादातर सर्दियों में होती है।

2. बालों का गिरना : महिलाओं में बालों का गिरना एक कहर की तरह होता है और कई बार तो इसके परिणाम डिप्रेशन या साईकोलोजिकल समस्याओं को भी जन्म देते हैं। रुसी से भी बाल झड़ते हैं, हमारे रोज़ 20 से 50 बाल गिरते हैं। अगर इससे ज्यादा बाल झड़े तो रुसी भी कारण हो सकती है। 

 

3. सूखे और बेजान बाल: क्या आपके बाल बेजान और रखें हैं , तो सावधान होजाएं इसका कारण रुसी होसकती है। रुसी आपके बालों का तेल खत्म कर देती यही जिससे आपके बाल बेजान और रूखे होजाते हैं।


4. मुँहासे: रुसी का सीधा कोई संबंध तो नहीं होता मुँहासों से लेकिन बहुत जायद रुसी होने पर यह चेहरे की त्वचा पर जमा होने लगती है जो आगे चल कर मुहांसों को जन्म देती हैं।

 5. कब्ज और ख़राब पेट : कुछ अध्ययनों से यह पता चलता है कि कब्ज और ख़राब पेट होने की वजह से भी रुसी होती है। 

रूसी हटाने के कुछ  घरेलू नुस्खे:-
नींबू से धुलना
3-4 नीबुओं के छिलके उतारकर उन्हें 4-5 कप पानी में 15-20 मिनट के लिये उबालें। जब ठंडा हो जाये तो इस घोल से सप्ताह में कम से कम एक बार अपने बालों को धोयें।

नींबू के रस से मालिश करना
 नहाने से पूर्व नींबू रस से अपने सिर की मालिश करें। 15 से 20 मिनट के बाद अपने बालों को अच्छी तरह से धुलें। यह उपचार चिपचिपेपन को दूर करता है, रूसी को रोकता है और आपके बालों को चमकीला बनाता है।


मेथी से उपचार
 2 चम्मच मेंथी को रात भर पानी में भिगोयें और अगली सुबह उन्हें पीस कर लेप बना लें। इस लेप को अपने बालों और सिर पर कम से कम 30 मिनट के लिये लगायें। 30 मिनट के बाद बालों को अच्छी तरह से धुलें। बेहतर परिणाम के लिये इस प्रक्रिया को चार हफ्तों के लिये दोहरायें।

सिरके से उपचार
 सिरके और पानी की समान मात्रा में मिलाकर एक मिश्रण बना लें। इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाकर रात भर के लिये छोड़ दें। अगली सुबह अपने बालों को बच्चों वाले सौम्य शैम्पू से धुलें।

अण्डे से उपचार
 दो अण्डों को फेंटकर बने लेप को अपने सिर पर लगायें और एक घण्टे बाद अच्छी तरह से धो लें। इस उपचार से आपके बालों में रूसी तथा बालों का गिरना कम होगा।


दही का घोल से उपचार
 अपने सिर और बालों पर थोड़ा सा दही लगाकर कम से से कम एक घण्टे इन्तजार करें। इसके बाद सौम्य शैंपू से इसे अच्छी तरह धो लें। यह प्रक्रिया सप्ताह में कम से कम दो बार करें।
गुनगुने तेल की मालिश से उपचार
 बादाम, नारियल या जैतून के गुनगुने तेल से सिर की मालिश करने से रूसी कम होगी। मालिश के बाद तेल को सिर पर रात भर के लिये छोड़ें।


नारियल तेल की मालिश से उपचार
1 चम्मच नींबू के रस के साथ 5 चम्मच नारियल तेल का मिश्रण बनायें और इसे अपने सिर पर लगायें। इस मिश्रण को लगाने के 20 से 30 मिनट बाद अच्छे शैम्पू से धुलें।
अपने सिर को सेब द्वारा बचायें
 सेब और सन्तरे की बराबर मात्रा लेकर उसका लेप बना लें और फिर इसे अपने सिर पर लगायें। इस लेप को लगाने के 20 से 30 मिनट बाद सिर को शैम्पू से धुलें।

एलो वेरा का प्रयोग से से उपचार
 नहाने से 20 मिनट पूर्व एलो वेरा जेल अपने सिर पर लगायें। 20 मिनट के लिये छोड़ने के बाद अपने बालों को शैम्पू से धुलें।



नीम की पत्तियों का लेप से से उपचार
 नीम की कुछ पत्तियों को पतला पीस कर लेप बना ले और सीधे अपने सूखे सिर पर लगायें। इस लेप एक घण्टे तक रखने के बाद गरम या ठण्डे पानी से इसे साफ करें।

तुलसी का जादू
 तुलसी और आँवले के पाउडर को पानी के साथ मिश्रित कर लेप बना लें। इस लेप की मालिश सिर पर करें। लगभग आधे घण्टे के लिये लेप लगा रहने दें। इसके बाद पानी और शैंपू की मदद से बालों को अच्छी तरह से धुलें।



रूसी के लिये लहसुन
 2 चम्मच लहसुन के पाउडर के साथ एक चम्मच नींबू रस मिलाकर लेप बना लें। इस लेप को सिर पर लगा के 30 से 40 मिनट के लिये छोड़ें। फिर इसको शैम्पू और ठण्डे पानी से अच्छी तरह से धो डालें।

रीठा से से उपचार
आप रीठा वाले साबुन का उपयोग कर सकते हैं या रीठा पाउडर का पतला लेप बनाकर अपने सिर पर लगायें। इसे 2 घण्टे बाद शैंपू और ठण्डे पानी से धो डालें।




प्याज का लेप

 अपने सिर पर प्याज का लेप लगायें और इसे एक घण्टे तक लगा रहने दें। इसे अच्छी तरह से धोने के बाद ताजे नींबू रस से मालिश करें जिससे कि बालों से प्याज की बदबू निकल जाये।

रोज़मेरी से उपचार
 रोज़मेरी की पत्तियों को सिरके के साथ निचोड़े और फिर इसे अपने सिर पर 15 से 20 मिनट के लिये लगायें। फिर अच्छी तरह से बालों को धोयें। रूसी के उपचार के लिये आप सिर पर रोज़मेरी तेल और नारियल तेल का मिश्रण भी लगा सकते हैं।


बेसन से उपचार
 दही के साथ मिलाकर बेसन का लेप अपने सिर पर लगायें। 20 से 30 मिनट बाद ठण्डे पानी से धोयें।
बेकिंग सोडा से उपचार
 शैम्पू करते समय एक चुटकी बेकिंग सोडा अपने बालों में डालकर मालिश करें। 15 से 20 मिनट बाद इसे धो डालें।


अदरक और चुकन्दर का लेप
 कुछ अदरक और चुकन्दर को पीसकर लेप बना लें। इस लेप से सिर पर मालिश करें और रात भर के लिये छोड़ दें। अगली सुबह अच्छी तरह से धो लें और इस प्रक्रिया को से रातों के लिये दोहरायें।
नियमित रूप से बालों को धुलें
 प्राकृतिक घरेलू नुस्खों से अपने बालों को रोज अथवा एकान्तर दिवसों पर धुलकर रूसी से बचा जा सकता है। बालों का ध्यान रखकर और सिर की भलीभाँति सफाई से भी रूसी से बचा जा सकता है।

काली मिर्च और नारियल तेल
नारियल तेल में थोड़ी सी काली मिर्च मिलाकर गर्म करें। तेल जब उबलना शुरू करे तो उसे आंच से हटा लें और बोतल में बंद करके रखें। रोज सोने से पहले सिर पर काली मिर्च वाले नारियल तेल की मसाज करें और अगले दिन शैंपू करें।

मेथीदाने का पेस्ट
मेथीदाने को पीस लें और पानी में मिलाकर इसका पेस्ट बनाएं। रोज सिर पर इसकी मसाज करें और फिर एक घंटे के बाद शैंपू करें। इससे डैंड्रफ भी दूर होगी और बाल झड़ेंगे भी नहीं। 

चुकंदर और हिना

चुकंदर को पीसकर हिना में मिलाएं और इसे सिप पर लगाएं। इससे भी डैंड्रफ खत्म हो जाती है।


 दही, नींबू और आंवला
तीन से चार दिन तक फ्रिज में रखी दही लें और इसमें चार बूंद नींबू का रस व आंवला पाउडर मिलाएं और सिर में लगाकर कुछ देर छोड़ दें। फिर शैंपू कर लें।

तेल लगाएं
 रोज रात को बालों की जड़ों में सरसों के तेल से मालिश कीजिए। सुबह शिकाकाई पानी में उबाल कर उस पानी से बाल धो लें।

ग्‍लीसरीन भी फायदेमंद
 बालों की जड़ों में रोजाना ग्‍लीसरीन और गुलाब जल लगाएं।


जैतून तेल लगाएं
 डैंड्रफ से बचने के लिए जैतून के तेल में अदरक के रस की कुछ बूंदे मिलाकर इसे बालों की जड़ों में लगाकर एक घंटे के लिए छोड़ दें और फिर शैंपू से धो दें।

आहार अच्‍छा होना चाहिये
 खाने में हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां, अंकुरित अनाज, ककड़ी, उबली हुई सब्जियां, फलियां, गाजर आदि को शामिल करें।  


डैंड्रफ से बचाव के अन्य उपाय :-

डैंड्रफ दूर करने के लिए विभिन्न प्रकार के एंटी डैंड्रफ शैंपू उपलब्ध हैं। जिंक पायरिथियोन युक्त शैंपू में फंगस और बैक्टीरिया का संक्रमण मिटाने में सहायक होता है। तार युक्त शैंपू डर्माटाइटिस की वजह से हुए डैंड्रफ को दूर करते हैं। कुछ शैंपू में सेलिसिलिक एसिड होता है, ये रुसी को साफ़ तो करते हैं लेकिन इनसे सिर की त्वचा बहुत रुखी हो जाती है। ऐसे में डैंड्रफ और बढ़ सकता है। सेलिनियम सल्फाइड एंटीडैंड्रफ डैंड्रफ मिटाते हैं मगर इससे रंग या डाय किए गए बालों का रंग उतर सकता है। अत: इन्हें वापरते समय सावधानीपूर्वक निर्देशों का पालन करना आवश्यक है। 
कीटाकोनाज़ोल शैंपू फंगस संक्रमण पर काफी असरकारी होते हैं। डैंड्रफ दूर करने के लिए हर दूसरे दिन किसी एक प्रकार के एंटीडैंड्रफ शैंपू का उपयोग करें। डैंड्रफ बहुत ज्यादा हो तो रोज़ शैंपू करें। हफ़्तेभर में रुसी कम हो जाएगी। इसके बाद हफ़्ते में दो से तीन दिन शैंपू करें। यदि शैंपू एक बार काम करने के बाद दूसरी बाद असर नहीं कर रहा हो तो एक बार उसका उपयोग करके अगली बार दूसरे प्रकार के एंटीडैंड्रफ शैंपू का इस्तेमाल करें। दोनों प्रकार के शैंपू का बारी-बारी से उपयोग करें। 

Show Comments: OR
Comments
0 Comments
Facebook Comments by

0 comments:

Post a Comment