Wednesday, 27 May 2015

Surprising Home Remedies for Acne | Secrets that Cured My Acne without Chemicals! How to Get Rid of Pimples/Acne/Botch Fast (क्या आपका चेहरा मुहासों के कारण बदसूरत हो गया है तो बिना कॉस्मेटिक क्रीम और केमिकल के मुहांसे/कील से कुछ ही दिनों में हमेशा के लिए निजात पायें)


       Secrets that Cured My Acne without Chemicals           

       मुहांसे/कील से कुछ ही दिनों में हमेशा के लिए निजात पायें       



       सार संक्षेप -                                                                                                 
                          
uयुवावस्था में एक्ने की समस्या हार्मोंस में बदलाव के कारण होती है ।
uएक्ने सिबेशस ग्रंथि की अति सक्रियता और हार्मोन के कारण होते हैं ।
uगाय के ताजे दूध में चिरौंजी को पीसकर इसका लेप चेहरे पर लगाने से मुहासे खत्म हो जाते हैं |
uचमेली के तेल को सुहागा में मिलाकर रात को सोने से पहले लगायें।


चेहरा कितना भी खूबसूरत क्‍यों ना हो अगर उसपर एक छोटा सा भी मुहांसा हो जाए तो वह पूरे चेहरे की सुंदरता को तार तार कर देता है। फिर आप जितना भी मेकप लगाकर उसे छुपाने की कोशिश करें वह बेकार ही जाता है। इसके लिए जरुरी है क‍ि आप अपने खाने-पीने पर और त्‍वचा की साफ सफाई का पूरा ध्‍यान दें। अगर चेहरे पर मुंहासों के जैसे बहुत सारे दानेहो जाएं और बहुत दिनों तक ठीक न हों तो जरा सावधान हो जाइए। यह एक्ने हो सकते हैं। एक्ने को आयुर्वेदिक उपचार से ठीक किया जा सकता है। दरअसल त्वचा के नीचे स्थित सिबेशस ग्लैंड्स से त्वचा को नम रखने के लिए एक तेल निकलता है। ये ग्रंथियां चेहरेपीठछाती और कंधों पर सबसे ज्यादा होते हैं।अगर ये ज्यादा सक्रिय हो जाएं तो रोमछिद्र चिपचिपे होकर बंद हो जाते हैं और उनमें बैक्टीरिया पनपने लगते हैं जो आगे चलकर एक्ने का कारण बनते हैं। 
सिबेशस ग्लैंड्स की अति सक्रियता की प्रमुख वजह एंड्रोजन हार्मोन की अधिकता होती है। एंड्रोजन पुरुष सेक्स हार्मोन है और यह लड़के और लड़कियों दोनों में ही होता है। 


किशोरावस्था में इसका प्रभाव ज्यादा होता है क्योंकि युवावस्‍था में अक्‍सर हार्मोन्‍स में परिवर्तनकब्‍ज और तनाव भरी दिनचर्या के कारण मुंहासे होने लगते हैं। लेकिन घबराने की कोई बात नहीं हैहर्बल तरीकों से इनसे निजात पाई जा सकती है। जैसे चेहरे पर साबुन का प्रयोग कम से कम करें। साबुन चेहरे को रूखा बनाकर रोम छिद्रों को भी अधिक खोल देता है। जिससे उनमें गंदगी जमा होकर मुंहासों का कारण बनती है। नियमित सफाई के लिए प्राकृतिक उपाय काम में लायें। इससे धूल और मैल तो साफ होगी ही साथ ही यह त्वचा की ऊपरी परत व मृत कोशिकायें भी हट जाएंगी। मुंहासों के दागों को दूर करने के लिए आप प्राकृतिक जूस का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं।  आइए हम आपको एक्ने के उपचार के लिए आयुर्वेद तरीकों के बारे में बताते हैं-

       नींबू का रस                                                                                             


नींबू आपके शरीर से एसिड वेस्‍ट निकाल कर आपके लिवर को साफ बनाता है जिससे इंजाइम आपके खून से गंदगी का सफाया करने में कामियाब रहता है। यह त्‍वचा को साफ और चमकदार बनाता है। नींबू प्राकृतिक रूप से मुंहासों से राहत पाने का कारगर तरीका है। नींबू का रस चेहरे पर लगाने से मुंहासे दूर होते हैं। नींबू आपकी त्‍वचा के रोम छिद्रों में जमे धूल के कणों को दूर करता है और स्किन को मुलायम बनाता है।

       उपचार                                                                                               

õनींबू को काटकर इसके टुकड़ों को मुंहासों वाली जगह पर कुछ देर के लिए रगड़ें और एक घंटे तक सूखने दें। चेहरे पर लगे नींबू के रस के पूरी तरह सूखने के बाद इसे साफ पानी से धो लें। 

õगुलाब जल में नींबू का रस मिलाकर इससे मुहांसों से प्रभावित हिस्‍से को साफ करने से भी आपको फायदा मिलेगा।

õनींबू के रस को चेहरे पर मलने से कील-मुंहासे ठीक हो जाते हैं।

õनींबूतुलसी और काली कसौंदी के रस को बराबर मात्रा में मिलाकर धूप में रखें। इसके गाढ़ा हो जाने पर चेहरे पर लगाने से मुंहासों में लाभ मिलता है।

õनींबू के रस को 4 गुना ग्लिसरीन में मिलाकर चेहरे पर रगड़ने से कील-मुंहासे नष्ट हो जाते हैं और चेहरा सुन्दर बन जाता है। इसका प्रयोग पूरे शरीर पर करने से त्वचा कोमल और चिकनी हो जाती है

õचम्मच गर्म दूध पर जमने वाली मलाई पर नींबू को निचोड़कर चेहरे पर मलने से चेहरे के मुंहासे दूर हो जाते हैं।

õनींबू का रस पिंपल भगाने में सबसे कारगर उपाय है। इसके रस से अपने चेहरे की 10-15 मिनट तक मालिश करने से राहत मिलेगी। हांअगर इसके प्रयोग से आपकी स्‍किन में जलन महसूस हो रही हो तो इसको डाइरेक्‍त ना इस्‍तमाल करें। तब इसको  पानी या चंदन पाऊडर में मिला कर लगाएं। ।

õप्रतिदिन ग्लिसरीन और नींबू रस की समान मात्रा चेहरे के काले धब्बों पर लेपित की जाए तो जबरदस्त फायदा होता है और जल्द ही गहरे काले निशानों की छुट्टी हो जाती है।

õमुंहासे हो जाने पर प्रतिदिन रात्रि को दूध की मलाई में एक नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर मलें और सुबह उठते ही ठंडे पानी से चेहरा अच्छी तरह धो लें। लगभग एक सप्ताह तक ऐसा करने से मुंहासे मिट जाते हैं।

õचेहरे पर मुंहासे बहुत अधिक हो गए हों और खूब बड़े हों तो रात को सोने से पूर्व चेहरे को गर्म पानी की भाप दें। उसके बाद चेहरा ठंडे पानी से धोकर नींबू के रस में नारियल का तेल मिलाकर अच्छी तरह लगाएं। सुबह उठते ही चेहरे को गुनगुने पानी से धो डालें। 7 दिनों में ही फर्क महसूस होने लगेगा।

       उड़द                                                                                                         


दालों के पौष्टिक तत्व जहाँ हमें तंदुरुस्त रखते हैं, वहीं दालों को पीसकर बनाए गए उबटन शरीर पर पड़े धब्बों और रंग को साफ करते हैं, त्वचा को ताजगी प्रदान करते हैं तथा मुहासे की समस्या से भी निजात दिलाते है । आइए देखें कि दालों के फेस पैक किस तरह मुहासे गायब होते हैं |

       उपचार                                                                                               

õत्वचा को स्निग्धता प्रदान करने के लिए उड़द की दाल के पावडर में गुलाबजल, ग्लिसरीन और बादाम रोगन मिलाकर चेहरे पर लगाएँ। काली उड़द को उबाल कर पेस्ट बना लें। इसमें मेथीदाने का पावडर मिलाकर केशों में लगाएँ और 2 घंटे बाद सिर्फ पानी से धोएँ। केश घने, लंबे और काले होंगे।

õउड़द और मसूर की बिना छिलके की दाल को सुबह दूध में भिगो दें। शाम को बारीक पीसकर उसमे नींबू के रस की थोड़ी बूंदे और शहद की थोड़ी बूंदे डालकर अच्छी तरह मिला लें और लेप बना लें। फिर इस लेप को चेहरे पर लगा लें। सुबह इसे गर्म पानी से धो लें। ऐसा लगातार कुछ दिनों तक करने से चेहरे के मुंहासे और दाग-धब्बे दूर हो जाते हैं और चेहरे में नयी चमक पैदा हो जाती है |

       सौंफ                                                                                                         


यह प्राकृतिक स्किन क्लींजर है। यह पाचन क्रिया दुरुस्त करती है और पेट की जलन को कम करके विषैले पदार्थो को शरीर से बाहर निकालने में मदद करती है। एक्ने युक्त त्वचा पर सौंफ को पानी के साथ पीस कर लगाएं और 15 मिनट बाद धोएं, काफी लाभ मिलेगा।

       शहद                                                                                                      


यह एक प्राकृतिक क्लींजर है। यह त्वचा के छिद्र को साफ करने में मदद करता है। इसमें मौजूद एंटी माइक्रोबियल तत्व होते हैं, जो जीवाणुओं को रोकने में मदद करते हैं। एक्ने युक्त त्वचा पर अगर कच्चे शहद का मास्क लगाया जाए तो काफी लाभ मिलता है। यह न सिर्फ त्वचा की गंदगी निकालता है बल्कि उसे बेदाग और कांतिमय भी बनाता है। इसके एंटीसेप्टिक गुण के कारण शहद मुंहासों वाली त्वचा के लिए उपयुक्त होता है। आपको अपनी त्वचा के लिए अक्सर शहद के मास्क का उपयोग करना चाहिए। एक महीने में ही आप देखेंगे कि आपकी त्वचा बहुत साफ़ हो गई है। आपकी त्वचा से मुंहासे न सिर्फ कम हो जायेंगे बल्कि वह अधिक चिकनी दिखेगी। मुंहासों के उपचार में शहद बहुत ही फायदेमंद रहता है। शहद रोगाणु नाशक होने के साथ मॉश्‍यचयराइजर भी है। 

       उपचार                                                                                               

õमुंहासों पर शहद लगाएं और इसे करीब एक घंटे तक लगा रहने दें। ऐसा करने से आप पाएंगे कि कुछ ही दिनों में आपके चेहरे के मुंहासे कम होने लगे हैं। 
 õआप गर्म पानी में शहद मिलाकर भी चेहरे पर लगा सकते हैं। इससे आपके रोमछिद्र खुल जायेंगे जिससे आपके चेहरे के पोर्स में गंदगी मिट जायेगी |
 õआप जायफल पाउडर और शहद मिलाकर फेस पैक तैयार कर सकते हैं। इस फेस पैक को चेहरे पर लगाकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें। इसका प्रयोग आप अपने चेहरे पर नियमित तौर पर कर सकते हैं।
 õदही में कुछ बूंदें शहद की मिलाकर उसे चेहरे पर लेप करना चाहिए। इससे कुछ ही दिनों में मुंहासे दूर हो जाते हैं। और आपके चेहरे पर नयी कांति उभर आएगी |
 õदालचीनी और शहद का लेप पुरुषों में मुंहासों पर जादू का काम करता है। दो सप्‍ताह तक इसका नियमित इस्‍तेमाल मुंहासे दूर कर देता है। इसे लगाने के लिए तीन बड़े चम्मच शहद तथा एक बड़ा चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर लेप तैयार कर लें। सोने से पहले इस लेप को मुंहासों पर लगाएं और अगली सुबह गुनगुने पानी से धो लें .
 õरोज सुबह हलके गर्म पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से त्वचा चमकदार और बेदाग होती है। एक टेबल स्पून शहद में एक एवोकैडो का गूदा मिलाकर चेहरे पर लगाएं और 15-20 मिनट बाद धो लें। ऐसा सप्ताह में तीन बार करने से एक्ने गायब हो जाते हैं।

       टूथपेस्‍ट                                                                                                 


टूथपेस्‍ट तो हम दांत साफ करने के लिए प्रयोग करते हैंपर इसके इस्‍तमाल से आप अपने चेहरे के पिंपल को भी साफ कर सकते हैं। अगर रात में सोने से पहले इसको अपने चेहरे के मुहांसे पर लगा रहने देगें तो यह उन मुहासों को ठंडा कर के सुखा देगा।  

       धनिया                                                                                                 


थोडे़ से अदरक के रस में खीरे का थोड़ा सा रस और धनिया का पानी मिलाकर चेहरे को धो लें। फिर 2 घंटे बाद स्वच्छ पानी से मुंह को धो डालें। ऐसा करने से कील-मुंहासों का निकलना बन्द हो जाता हैं |


       पुदीने की पत्तियां                                                                               


इसमें मेंथॉल होता है, जो नैचरल एंटी-इंफ्लामेटरी और पेन किलर का काम करता है। एक्ने के कारण आई लाली, जलन व सूजन को कम करने में पुदीना सहायक होता है 

       उपचार                                                                                               
õएक मुट्ठी पुदीने की पत्तियों को धोकर उसका रस निकालें तथा इस रस को 35 से 45 मिनट तक चेहरे पर लगाकर रखें और फिर गरम पानी से धो डालें। यह पद्धति मुंहासों के लिए चोकर से अधिक फायदेमंद हैं 
õयदि चेहरे पर दागमुंहासे से बिगड़ गया हो तो रोजाना पुदीने का पेस्ट का लेप करें एक माह तकचेहरा सुंदर हो जायेगा।
õयदि चेहरे पर दागमुंहासे से बिगड़ गया हो तो रोजाना पुदीने का पेस्ट का लेप करें एक माह तकचेहरा सुंदर हो जायेगा। 

       चमेली का तेल                                                                                      


चमेली के तेल को सोहागा में मिलाकर रात को सोते समय चेहरे पर लगाकर मसलें। सुबह बेसन को पानी से गीला कर गाढ़ा-गाढ़ा चेहरे पर लगाकर मसलें और पानी से चेहरा धो डालें। इससे चेहरे पर होने वाली जलन पर बहुत आराम मिलेगा।

       लहसुन                                                                                              


यह एक सुपर फूड है जो कि संक्रमण से लड़ता है । एक्ने की समस्या से राहत देता है। अगर इसे रोजाना कच्चा खाया जाए या सैलेड के साथ खाया जाए तो यह अत्यधिक लाभ देता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल तत्व होते हैंजो एक्ने को बढने नहीं देते और सूखने में मदद देते हैं।  यह गंदे बैक्‍टीरिया और वायरस से लड़ता है जिससे पिंपल्‍स की समस्‍या दूर हो जाती है।
       उपचार                                                                                               

õलहसुन को धोकरछीलकर लगभग 30 मिनट तक पानी में भिगा कर रखें। लहसुन को पीसकर इसमें पांच बूँदें सफ़ेद सिरका की मिलाएं। मुंहासों को जल्दी दूर करने के लिए इस मिश्रण को अपनी त्वचा पर लगायें। ध्यान रखेंबहुत अधिक गरम लहसुन आपकी त्वचा को जला सकता है। इसका बहुत अधिक उपयोग न करें तथा इसे चेहरे पर दस मिनट से अधिक समय तक न लगायें।


õ लहसुन की कुछ कलियों को कुचलकरइसे एक चम्मच दही और आधा चम्मच शहद मिलाकर मुहांसों पर आहिस्ता-आहिस्ता इस लेप को लगाना चाहिए। करीब 15 मिनट बाद चेहरे को साफ पानी से धुल लेना चाहिए। ऐसा करने से मुहांसे शीघ्र खत्म हो जाते हैं। माना जाता है कि महज 2 लहसून की कलियों को कुचलकर प्रतिदिन मुहांसों पर लगाया जाए तो भी काफी फायदा होता है। 

õ2-3 कली लहसुन का ऊपर वाला हिस्सा पीस कर उसे पानी या एलोवेरा जेल में मिलाकर प्रभावित स्थान पर लगाने से लाभ मिलता है। यह ध्यान रखें कि लहसुन को बिना पानी में घोले या ऐलोवेरा जेल में मिलाएं सीधे त्वचा पर न लगाएं। 

       केला                                                                                                      


केले न केवल त्वचा के लिए संपूरक आहार है बल्कि यह त्वचा को प्रभावी रूप से कसा हुआ , चिकना, प्रज्वलनरोधी तथा मुंहासे रोधी बनाता है। आधे केले को एक चम्मच आटे और एक अंडे के सफ़ेद भाग में मिलाएं। अपना चेहरा धोएं तथा इस मिश्रण को लगभग 20 मिनट चेहरे पर लगाकर रखें तथा फिर गरम पानी से धो डालें। सप्ताह में तीन बार ऐसा कारें जब तक परिणाम न प्राप्त हों।

       कच्‍चे दूध का इस्‍तेमाल                                                                    


मुंहासों के लिए पुरुषों को रात के समय सोने से पहले कच्चे दूध को चेहरे पर मलना चाहिए और सुबह के समय उठकर चेहरे को अच्छी तरह से धो लेना चाहिए। इससे मुंहासे जल्दी ही ठीक हो जाते हैं।

       पान के पत्ते                                                                                                   


चेहरे पर मुंहासे और काले धब्बों का इलाज़ करने के लिये कुछ पान के पत्ते लें और उबलते पानी मे मिलायें और इससे चेहरे को धोयें। अगर आप इस प्रकार दो से तीन बार एक दिन में धोते हैं तो निशान फीका पड जायेगा ।


       उपचार                                                                                               

õपान के पत्ते को पांच मिनिट तक लगाये रखने से मुंहासों की रोकथाम होती है। इससे मुंहासे की सूजन जल्दी कम होती है।

õपान की जड़ को पीस लें और पानी में मिलाकर चेहरे पर लगाएं। पान की जड़ किसी परचून की दुकान पर आसानी से मिल जाती है। यदि आप मुंहासे की गंभीर समस्या से परेशान हैं तो इस फेस पैक की इस्तेमाल अवश्य करें।

õपान के एक पत्ते को कुचल लिया जाए और इसमें एक चम्मच नारियल का तेल मिला लिया जाए। इसे चेहरे या शरीर के किसी भी हिस्से पर बने दागकाले निशान या धब्बों पर लगाकर कुछ देर रखा जाए और फिर धो लिया जाए। ऐसा सप्ताह में कम से कम 2 से 3 बार किया जाए तो 3 महीने के भीतर निशान मिट सकते हैं। 

       आलू                                                                                                      



एक आलू को बारीक पीस लिया जाए और इसमें 2-3 चम्मच कच्चा दूध मिला लिया जाए ताकि पेस्ट तैयार हो जाए। इस पेस्ट को प्रतिदिन सुबह शाम कुछ देर के लिए काले निशानों पर लगाकर रखा जाए और फिर धो लिया जाएशीघ्र ही निशान दूर हो जाएंगे |

       कलौंजी                                                                                                


सिरके में कलौंजी को पीसकर लेप बनाएं और उसे रोजाना सोते समय पूरे चेहरे पर मलें। सुबह पानी में साफ कर लें। इस प्रयोग को कुछ दिनों तक लगातार करने से चेहरे पर बहुत अच्छा प्रभाव होता है।

       दालचीनी :                                                                                                     


शहद और दालचीनी एक्ने के सबसे बडे दुश्मन हैं इसलिए इन्हें अपना दोस्त बना लें और एक्ने से डट कर मुकाबला करें। दरअसल दालचीनी में एंटीमाइक्रोबिअल तत्व होते हैं। साथ ही इसमें फाइबर होने के कारण इससे एक्सफोलिएशन का काम बहुत आसानी से किया जा सकता है। शहद एंटीबायोटिक का काम करता है। दालचीनी और शहद का लेप पुरुषों में मुंहासों पर जादू का काम करता है। दो सप्‍ताह तक इसका नियमित इस्‍तेमाल मुंहासे दूर कर देता है। इसे लगाने के लिए तीन बड़े चम्मच शहद तथा एक बड़ा चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर लेप तैयार कर लें। सोने से पहले इस लेप को मुंहासों पर लगाएं और अगली सुबह गुनगुने पानी से धो लें।

       उपचार                                                                                               
õबड़े चम्मच शहद में 1 चम्मच दालचीनी पाऊडर और कुछ बूंदे नींबू के रस की डालकर लेप बनाकर चेहरे पर लगाएं और एक घंटे बाद धोएं। इससे मुंहासे ठीक हो जाएंगे।
 õचौथाई चम्मच दालचीनी में नींबू के रस कीं कुछ बूंदे डालकर लेप बनाकर चेहरे पर लगाएं और एक घंटे बाद धो लें। इससे मुंहासे जल्दी ठीक हो जाते हैं।
 õदालचीनी और शहद को एक साथ मिला कर अपने मुहांसो पर हल्‍के हाथों से मलें। इसको एक साथ मिला कर पेस्‍ट भी तैयार कर सकती हैं और चेहरे पर लगा सकती हैं।
 õदालचीनी पाउडर में शहद मिलाकर चेहरे पर 15-20 मिनट तक लगाएं। सूखने पर हलके गुनगुने पानी से धो लें। 
  
       सेब                                                                                                         


सेब में काफी सारा पेप्‍टिन होता है जो कि एक्‍ने का काफी बड़ा दुश्‍मन है। इसलिये सेब के छिलके को जरुर खाएं क्‍योंकि इसमें पेप्‍टिन सबसे ज्‍यादा होता है। हिमाचल में महिलाएं पारंपरिक ज्ञान के अनुसार सेव के फलों को कुचलकर रस तैयार करती हैं और इस रस को मुहांसों और चेहरे के अन्य दाग धब्बों वाले हिस्सों पर लगाती हैंऐसा करने से मुहांसों में आराम मिलता है और त्वचा के पुराने दाग-धब्बे भी समाप्त हो जाते हैं। 

       एलोवेरा                                                                                                           



त्वचा के दाग धब्बों के लिए एलोविरा एक औषधि के समान है। एलोविरा की पत्ती से निकलने वाले जेल को रोज़ाना अपने चेहरे पर लगायें। इससे न केवल दाग धब्बे दूर होते हैं बल्कि मुंहासों के बहुत गहरे निशान भी प्रभावी रूप से दूर होते हैं।

       संतरे के छिलके                                                                                        


संतरे में एसिड और विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है। संतरे के जूस और छिलके दोनों को ही आप मुंहासों से छुटकारा पाने के लिए इस्ते माल कर सकते हैं। हालांकि संतरे का छिलका इसमें ज्यादा कारगर साबित होता है।

       उपचार                                                                                               
õसंतरा में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो मुंहासों को रोकने में सहायक होता है। लगभग 2 चम्मच संतरे के रस में एक चम्मच बेकिंग सोड़ा मिलाएं। इस मिश्रण को त्वचा पर लगभग 20 मिनट लगा रहें दें तथा फिर ठंडे पानी से धो डालें। सप्ताह में तीन बार इसे दोहराएँ जब तक मुहांसे दूर न हो जाएँ।

õसंतरे के छिलकों को धूप में सुखाकर इनका पाउडर तैयार कर लें। अब इस पाउडर को पानी में मिलाकर पेस्ट। तैयार कर लें। इस पेस्टा को मुंहासों पर 10 से 15 मिनट के लिए लगाएं। इसके बाद अपने चेहरे को गर्म पानी से धो लें इससे आपको मुंहासों में राहत मिलेगी।

õसंतरे के छिलकों को छाया में सुखाकर इसका चूर्ण बना कर साफ शीशी में रख लें। एक-दो मास तक प्रतिदिन इस चूर्ण की एक चुटकी लेकर इसमें कुछ बूंदें नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर उबटन करने से धीरे-धीरे मुंहासे दूर होकर चेहरे पर कांति आ जाती है।

õसंतरे के छिलकों को धूप में सोखनापीसो और छानो। इसमें थोड़ी सी बारीक पीसी और छानी मुल्तानी मिट्टी मिलाओ और गुलाब जल में घोल लो। घना घोल मुहासों और पूरे चेहरे पर लगाओ। आधे घंटे बाद चेहरा गुनगुने पानी के साथ धो लो। 2 सप्ताहों में चेहरा मुहासों से मुक्त हो जाएगा।

       खीरा                                                                                                     


खीरे के इस्तेदमाल से मुंहासे दूर करने में मदद मिलती है। खीरे के बाहरी भाग को एक बड़ा चम्ममच दही में मिलाकर पेस्ट‍ तैयार कर लें। तैयार किए गए इस पेस्टै को मुंहासों वाले भाग पर लगाकर करीब आधे-पौने घंटे तक सूखने दें। अब इसे ठंडे पानी से धो लें। अपने चेहरे से मुंहासे दूर करने का यह बहुत आसान तरीका है रात को सोने से पहले अच्छी तरह मुंह धोकरखीरे के रस में हल्दी पाउडर लगाने से मुंहासों की समस्या का समाधान से निजात पाया जा सकता हैं।

       ओटमील                                                                                                


यह फाइबर का एक बेहतरीन स्नोत है, जो पेट को साफ रखने में मदद करता है। इसे पानी के साथ पका कर दो टेबल स्पून शहद मिलाकर चेहरे पर मास्क की तरह लगाएं। यह त्वचा की जलन और लाली भी दूर करने में मदद करेगा।ओटमील विटमिन बी का अच्छा स्नोत है, जो स्ट्रेस दूर करने में मदद करता है। साथ ही तनाव के कारण होने वाले एक्ने से छुटकारा दिलाता है।

       चन्दन :                                                                                                             



चंदन का पाऊडर पिंपल भगाने में बहुत लाभकारी होता है। यह न सिर्फ आपके चेहरे को फ्रेश करेगा बल्कि पिंपल को दुबारा लौटने से भी रोकेगा। चंदन पाऊडर को पिंपल पर 2-3 घंटो के लिए लगा रहने दें और चेहरे को ठंडे पानी से धो कर सूखा लें।

       उपचार                                                                                               

õचेहरे पर गुलाब जल लगा कर छोड़ दें इससे आपकी स्‍किन के पोर्स खुल जाएगें और चेहरा तरोताजा हो जाएगा। इसको चंदन पाऊडर के साथ मिक्‍स कर के भी पिंपल पर लगाया जा सकता है।

õचंदन पाऊडर को मुल्‍तानी मिट्टी और गुलाब जल को 10-15 मिनट के लिए चेहरे पर लगा रहने के बाद धो लें। यह रातभर में या केवल 2-3 दिनों में ही आपके चेहरे से पिंपल को गायब कर देगा।

õचंदनहल्दी और गुलाब जल का मिश्रण तैयार कर फेसपैक तैयार किया जाए और सप्ताह में कम से कम एक बार रात को 15 मिनट के लिए इसे लगाकर रखा जाए तो मुहांसे होने की गुंजाईश काफी हद तक कम हो जाती है। यदि चेहरे पर मुहांसे हों तो वो भी खत्म हो जाते हैं। 

õसौंदर्य संबंधी चेहरे की समस्याओं को दूर करने के लिए चंदन बहुत ही किफायती होता है। आप चंदन और हल्दी पाउडर दूध के साथ मिलाकर चेहरे पर लगाएंगे तो आपको त्वचा की जलन और मुंहासों से आराम मिलेगा।


       नारियल तेल का प्रयोग                                                                                         


पुरुषों में होने वाले मुंहासों के लिए न‍ारियल का तेल उपयोगी होता है। नारियल तेल में पाये जाने वाले कुछ खास तत्वव मुंहासों को दूर करने में मदद करते हैं। नारियल तेल को सीधे चेहरे पर लगाने से मुंहासे आसानी से दूर हो सकते हैं। कपूर को नारियल तेल के साथ मिलाकर मुँहासे के निशान पर लगाएँ और लगभग 10 मिनट बाद धो लें, यह कील मुहाँसों का कारगर इलाज है ।

       कालीमिर्च                                                                                                      

      
20 कालीमिर्च के दानों को गुलाबजल में पीसकर रात को सोते समय चेहरे पर लगाएं और सुबह गर्म पानी से धोएं। इससे कुछ ही समय में कील-मुंहासेंझुर्रियां आदि साफ होकर चेहरा चमकने लगता है।

       नीम                                                                                                           


नीम एक एंटीसेप्टिक पेड़ होता है, जिसका हमारी त्‍वचा पर बहुत अच्‍छा असर पड़ता है। आयुर्वेद में इसकी पत्‍तियों को त्‍वचा और बालों संबन्‍धी रोगों को ठीक करने के लिये प्रयोग किया जाता है। पुराने जमाने में तो लोग गरम पानी में नीम की पत्‍तियों को डाल कर स्‍नान करते थे। इससे शरीर में खून की शुद्धी भी होती है। इसके फायदे के लिये आप या तो उसकी पत्‍तियों का प्रयोग कर सकते हैं या फिर डंठल का। आप कई ब्‍यूटी प्रोडक्‍ट्स का ऐसे प्रयोग कर सकते हैं जिसमें नीम के तत्‍व मिले हों। इसका पैक बना कर लगाने से चेहरे के कील-मुंहासे समाप्‍त होते हैं। यह त्वचा में रोग प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाता है। इसके प्रयोग से मुंहासे में जादू जैसा लाभ होता है।

       उपचार                                                                                               

õचेहरा नीम के साबुन से धोयें। नीम उबाले पानी से धोयेंत्वचा तैलीय नहीं होगी तो मुंहासे निकलना बंद हो जायेगा। 
õनीम की पत्तियों को धीमी आच पर उबालें। ठंडा होने पर पत्तियों का पेस्ट बनाएं और चेहरे पर लगाएं। ऐसा प्रतिदिन करने से एक्ने की समस्या से निजात मिलती हैं।
õचेहरा नीम के साबुन से धोयें। नीम उबाले पानी से धोयेंत्वचा तैलीय नहीं होगी तो मुंहासे निकलना बंद हो जायेगा।   
õनीम के पत्तेअनार का छिलकालोध्र और हरड़ आदि को बराबर मात्रा में लेकर दूध के साथ पीसकर रोजाना चेहरे पर लेप को लगाने से चेहरा निखर उठता है।
õनीम के पत्ते और छाल का रस रोजाना रात को चेहरे पर लगाने से मुंहासे पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं।
õनीम की छाल के बिना नीम की लकड़ी को पानी के साथ चंदन की तरह घिसकर मुंहासों पर 7 दिनों तक लगातार लगाने से मुंहासें पूरी तरह से समाप्त हो जाते हैं।
õनीम की जड़ को पानी में घिसकर लगाने से कील-मुंहासे मिट जाते हैं और चेहरा सुन्दर बन जाता है।
õचार-पांच नीम की पत्तियों को पीसकर मुलतानी मिट्टी में मिलाकर लगाएंसूखने पर गरम पानी से धो लें।

       तरबूज                                                                                                       


तरबूज से चेहरे पर पड़े दाग धब्‍बे और झांइयों से छुटकारा पाया जा सकता है क्‍योंकि इसमें विटामिन ए, बी और सी होता है। यह स्‍किन को फ्रेश, हाइड्रेट और चमकीला बनाता है। यह एक्‍ने और उसके धब्‍बों को भी दूर करता है।

       दही                                                                                                          


इसमें एंटीफंगल और एंटीबैक्‍टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो कि त्‍वचा की अंद रसे सफाई करती है। यह बंद पोर्स को भी खोलती है।

       तिल                                                                                                         

       उपचार                                                                                               
õतिलों की छाल और सिरके को एकसाथ पीसकर मुंह पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं।
õसांप की केंचुली को जलाकर राख करके तिल के तेल में मिलाकर लगाने से पित्त के कारण शरीर पर होने वाले फोड़े-फुन्सियां मिट जाती है।
õतिल को पीस कर मक्खन के साथ मिला कर नियमित रूप से चेहरे पर लगाने से चेहरे का रंग निखरता है और चेहरे से कील मुँहासे भी गायब हो जाते है। 
       ऑलिव ऑइल                                                                                           


ऑलिव ऑइल को चेहरे पर लगाने से चेहरे के पोर्स ब्‍लॉक नहीं होते तथा तेल पूरी तरह से त्‍वचा में समा जाता है। इससे एक्‍ने दूर करने में मदद मिलती है।

       अजवाइन :                                                                                                  


       उपचार                                                                                               

õचम्मच अजवायन को 4 चम्मच दही में पीसकर रात में सोते समय पूरे चेहरे पर मलकर लगाएं और सुबह गर्म पानी से साफ कर लें। इससे कुछ ही समय में चेहरे के कील-मुंहासे दूर हो जाते हैं।
õ30 ग्राम अजवायण बारीक पीसो और 25 ग्राम दही में मिला कर रात भर के लिए मुहासों पर लगाओ। प्रात:काल चेहरा धो लो। तुलसी की पत्तियों का चूरन मिला कर लगाने से भी मुहासे दूर होते हैं।

       रसभरी                                                                                                     


ऐसे खट्टे फल जिनमें एंटीऑक्‍सीडेंट होता है वह चेहरे के लिये काफी अच्‍छा होता है। इसमें विटामिन और फाइबर भी काफी मात्रा में पाया जाता है। यह त्‍वचा को मुंहासों से बचाती है।

       मसूर की डाल                                                                                              


एक से दो चम्मच बारीक पीसी हुई मसूर की दाल को रात को पानी या दूध  में  भिगो कर दो। सुबह उसको थोडा मिक्स कर के एक पेस्ट की तरह  बना लो। अब इसे अपने चेहरे पर अच्छे  से लगा लो 15 मिनट लगा रहने दो। उसके बाद चेहरे को हल्का सा गीला  कर के मसाज कर लो। उसके बाद चेहरा धो लो। ऐसा रोज करे आपको  7 दिन में  ही  फरक महसूस होने लगेगा और इसे आप लगातार लगायेंगे तो आपके चेचक के दाग या पिम्पल के दाग भी बिल्कुल  गायब हो जायेंगे।

       ताजा फल                                                                                                    


नियमित रूप से ताजे फल खाने से त्वचा में रक्त संचार सुचारु रूप से होता है। यह रोमछिद्र को साफ रखने के लिए बहुत जरूरी है। ताजे फल खाने से त्वचा के नए कोशों का निर्माण होता है और व साफ-सुथरी बेदाग नजर आती है। त्वचा के सेहत के लिए गाजर, अनार, अंगूर और आडू बहुत ही फायदेमंद हैं। गाजर में विटमिन ए और बीटा कैराटिन होता है, जो त्वचा को एक्ने मुक्त और बेदाग बनाने में मदद करता है। अगर गाजर को डाइट में रोजाना शामिल किया जाए तो यह तेजी से एक्ने से छुटकारा दिलाती है।

       ग्रीन टी                                                                                                  



हाल ही में हुए एक शोध से यह साबित हो गया है कि ग्रीन टी एक्ने से छुटकारा दिलाने में काफी कारगर होती है। इसमें पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट एपिगैलोकेसटकिन-3-गैलेट या इजीसीजीसीबम प्रोडक्शनजलन और एक्ने युक्त त्वचा में जीवाणुओं के विकास को कम करने में मदद करता है। इसलिए रोजाना दिन में कम से कम दो बार ग्रीन टी जरूर पीना शुरू करें। 

       उपचार                                                                                               

õभीगे हुए टी बैग प्रभावित स्थान पर 2-3 मिनट रखने पर लाभ मिलता है 

õ1/2 कप ताजे पानी में 2 टी स्पून ऑर्गेनिक चाय की पत्ती या ग्रीन टी बैग मिलाकर अच्छी तरह उबाल लें। फिर 4-5 मिनट बाद छानकर पानी अलग रखें। इस पानी में कॉटन पैड या मुलायम कपडा भिगोकर चेहरे या प्रभावित स्थान पर लगाएं और 15 मिनट बाद धो लें।

       अन्य कारगर उपाय -                                                                                


[पपीते का दूध गालों और चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते है
[जायफल को धिसकर उसका लेप बनाकर कील-मुंहासों और जलन की जगह पर लगाने से आराम मिलता हैं।
[एक्ने आमतौर पर बॉडी के उन हिस्सों में ज्यादा होते हैंजहां ऑयल ग्लैंड्स ऐक्टिव होते हैं। यही वजह है कि चेहरेपीठछातीगर्दन और बाहों के ऊपरी हिस्से में ये बहुत ज्यादा होते हैं। लेकिन समय पर इलाज न होने से ये दाग भी छोड़ सकते हैं।
[चमेली के तेल को सोहागा में मिलाकर रात को सोते समय चेहरे पर लगाकर मसलें। सुबह बेसन को पानी से गीला कर गाढ़ा-गाढ़ा चेहरे पर लगाकर मसलें और पानी से चेहरा धो डालें। इससे चेहरे पर होने वाली जलन पर बहुत आराम मिलेगा।
[टंकण और शक्ति पिष्टी के पाउडर में शहद मिलाकर कील-मुँहासों पर लगाएं।
[लोध्रवचा और धनियातीनों को पीसकर थोड़े से दूध में मिलाकर लेप बना लें और कील-मुंहासों इत्यादि पर लगाएंइसे कम से कम आधा घंटा लगाकर धो लें।
[सफेद सरसोंलोध्रवचा और सेन्धा नमक के चूर्ण को पानी में मिलाकर लेप बनाकर एक्ने की जगह पर लगाएं।
[मसूरवट वृक्ष की कोंपलेंलोध्रलाल चन्दन को पानी के साथ मिलाकर कील-मुंहासों पर लगाएं। इससे बहुत आराम मिलेगा।
[आयुर्वेद उपचार के साथ ही एक्नें की समस्‍या से बचने के लिए चेहरे की साफ-सफाई रखना जरूरी हैंऐसे में चेहरे को बार-बार पानी से धोएं।
[एक्ने की समस्या से बचने के लिए मेकअप कम से कम करें और गर्मियों में वॉटरप्रूफ मेकअप का ही इस्तेमाल करें।
[पानी के साथ घिसा हुआ जायफल एक्ने और पिंपल के इलाज में कारगर होता है। 
[प्याज को काटकर तेल में पारदर्शी होने तक पकाए। ठंडी होने पर उसे मलमल के कपड़े में बांधकर चेहरे पर रगड़े । 
[बेसन को छाछ में लेप बनाकर चेहरे पर लगाऐं। 
[तीन चम्मच राई थोड़े से पानी में भिगा दें सुबह पीसें इतना ही पानी डालें जो पेस्ट बन जाये चेहरे पर इसे लगायें 20 मिनट बाद धोलें कील मुंहासे मिट जायेंगे। 
[कच्चे अंजीर का दूध मुंहासों पर लगाने से मुंहासे समाप्त हो जाते हैं 
[कच्चे पपीते का दूध गालों और चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं
[तीन चम्मच बेसनचौथाई हल्दीचुटकी भर कपूर और नींबू का रस मिलाकर पेस्ट बनाकर चेहरे पर लेप करें । सूखने के बाद ठन्डे पानी से धोने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं 
[जामुन की गुठली पानी के साथ घिसकर मुंहासों पर लगाने से मुंहासों में लाभ होगा 
[एक्ने की समस्या को खानपान से भी दूर किया जा सकता हैं लेकिन उसके लिए आपको तैलीय खाद्य पदार्थ और चॉकलेटपेस्ट्री इत्यादि खाद्य पदाथरें को नजरअंदाज करना होगा।
[भोजन से आधा घंटा पहले एक बड़ा चम्मच मेथी चूर्ण जल से निगल लें। 
[दो करेला को धो काटकर आधा गिलास पानी में उबालकर इस पानी को पीने से लाभ होगा। 
[बेल के पत्तों को पीसकर कपड़े में बांधकर उसका जूस तीन-चार चम्मच प्रतिदिन पीने से से मुंहासे ठीक हो जाते हैं
[कुलिंजन से बने तेल को मुंहासे में लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं।
[पपीते का दूध गालों और चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते है।
[रोजाना रात को जायफल को कच्चे दूध में मिलाकर गाढ़ा सा लेप बना लें। रात को सोते समय इस लेप को चेहरे पर लगा लें और सुबह उठने पर गर्म पानी से धो लें। इससे थोड़े दिनों में मुंहासे ठीक होकर चेहरा बिल्कुल साफ हो जाता है।
[मौसमी के छिलकों को पीसकर मुंहासों पर लगाने से लाभ होता है।
[मैनफल के फल को पीसकर मुंहासों में लगाने से लाभ होता है।
[तुलसी के पत्तों के रस मे नींबू का रस मिलाकर रोजाना चेहरे पर लगाने से लाभ होता है।
[कंटकरंज के बीज को पीसकर निकाला हुआ तेल या कंटकरंज के बीज को पकाकर बनाया हुआ तेल चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं।
[से 6 ग्राम हल्दी को रोजाना सुबह और शाम खाने से चेहरा चमक उठता है।
[20 से 40 मिलीलीटर उन्नाव के शर्बत को पानी में मिलाकर रोजाना 2 से 3 बार पीने से मुहांसे दूर हो जाते हैं और त्वचा का रंग साफ होकर चेहरा चमकदार हो जाता है।
[हिंगोट के गूदे को ठंड़े पानी में घिसकर मुंह पर लगाने से मुंहासे दूर हो जाते हैं।
[हल्दी में आक के दूध को मिलाकर कील-मुंहासों पर लेप करने से कुछ दिनों में ही चेहरे के कील मुंहासे दूर हो जाते हैं और चेहरे पर चमक आ जाती है।
[जामुन की गुठली को घिसकर मुंहासों पर लगाने से मुंहासें दूर हो जाते हैं।
[चेहरे के मुंहासों और दाद पर दूधी का दूध लगाने से लाभ होता है।
[ककड़ी का रस रंग को साफ करता है। चेहरे पर दागताम्बे के रंग के धब्बे और मुंहासे हो तो रोजाना ककड़ी का 1 गिलास रस पीना लाभकारी रहता है। 
[चम्मच बेसनचौथाई हल्दीचुटकी भर कपूर और नींबू के रस को एकसाथ मिलाकर लेप बनाकर चेहरे पर लगा लें। सूखने के बाद इसे ठंड़े पानी से धोने से चेहरे के मुंहासे ठीक हो जाते हैं। 
[अनार के बीजों का लेप बनाकर मुंहासों पर लगाने से मुंहासे नष्ट हो जाते हैं।
[नारियल के पानी से रोजाना दिन में 2 बार चेहरे को धोने से चेहरे की झुर्रियां और सलवटें दूर हो जाती है।
[दूब (घास) पर पड़ी ओंस को चेहरे पर लगाने से मुंहासे निकलना बन्द हो जाते हैं।
[कच्चे अंजीर का दूध मुंहासों पर 3 बार लगाने से मुंहासे समाप्त हो जाते हैं।
[लोध्र की छालधनिये का पाऊडर और वच को बराबर मात्रा में मिलाकर पानी के साथ पीसकर लेप बनाकर सुबह नहाने से पहले और रात को सोने से पहले चेहरे पर लगा लें। इससे कील-मुंहासे तो दूर होगें ही साथ ही चेहरे की चमक भी बढ़ेगी।
[बकुची के बीजों का तेल सुबह-शाम नियमित रूप से सेवन करने से बहुत लाभ प्राप्त होता है।
[ लैवेंडर के तेल को चेहरे पर लगातार लगाना चाहिए जिससे पिंपल रात भर में ही गायब हो जाए। यह पिंपल को दूर करने का एक बहुत असरदार उपाय है  
[रात में आंवले या उसका चूर्ण पानी में भिगोए प्रात: काल इसे अपने चेहरे पर धीरे धीरे मसले और थोड़ी देर बाद चेहरे को पानी से धो लें ।
[अखरोट को नियमित रूप से खाने पर त्‍वचा मुलायम बनती है। अखरोट के तेल में ऐसा एसिड पाया जाता है जो कि त्‍वचा को अंदर से नम रखता है और उसे स्‍मूथ बनाता है। 

Show Comments: OR
Comments
0 Comments
Facebook Comments by

0 comments:

Post a comment