Monday, 30 May 2016

Some Superb Health Benefits And Nutrition Facts Of Cucumber : जानिए ! खीरे के आश्चर्यजनक स्वास्थ्यवर्धक लाभ |




खीरा एक बहुत ही क्षारीय खाद्य पदार्थ है जिसमें विटामिन ´´ और ´सी´ अधिक मात्रा में होता है। खीरा में 97 प्रतिशत तक पानी होता है और इसे खाने से भूख भी शांत होती है। यह मधुमेह के रोगियों और स्थूल शरीर वालों के लिए बहुत लाभकारी है। इसका प्रयोग खास तौर पर सलाद के रूप में किया जाता है। यह पेशाब लाने वाला और मूत्र रोगों को दूर करने वाला होता है। खीरा ठंडा होता है और गर्मी के मौसम में इसे खाने से प्यास शांत होती है। खीरा सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। इसके सौंदर्य लाभ के बारे में तो आपने काफी कुछ सुना होगा, लेकिन यह आपकी सेहत के लिए कितना और किस तरह फायदेमंद है इसके बारे में आज हम आपको बताते हैं। कम फैट व कैलोरी से भरपूर खीरे का सेवन आपको कई गंभीर बीमारियों से बचाने में सहायक है। खीरा कब्ज से मुक्ति दिलाने के साथ ही पेट से जुड़ी हर समस्या में फायदेमंद साबित होता है। इसके अलावा एसिडिटी, छाती की जलन में नियमित रूप से खीरा खाना लाभप्रद होता है। जानिए खीरे के ऐसे ही स्वास्थ्यवर्धक लाभ के बारे में जिनके बारे में आपने पहले कभी नहीं सुना होगा...
        प्रोटीन की खान:                                                                              



सलाद के तौर पर प्रयोग किए जाने वाले खीरे में इरेप्सिन नामक एंजाइम होता है, जो प्रोटीन को पचाने में सहायता करता है। खीरा पानी का बहुत अच्छा स्रोत होता है, इसमें 96% पानी होता है। खीरे में विटामिन ए, बी1, बी6, सी,डी पौटेशियम, फास्फोरस, आयरन आदि प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं। नियमित रुप से खीरे के जूस शरीर को अंदर व बाहर से मजबूत बनाता है।

        बालों व त्वचा की देखभाल:                                                                


खीरे में सिलिकन व सल्फर बालों की ग्रोथ में मदद करते हैं। अच्छे परिणाम के लिए आप चाहें तो खीरे के जूस को गाजर व पालक के जूस के साथ भी मिलाकर ले सकते हैं। फेस मास्क में शामिल खीरे के रस त्वचा में कसाव लाता है। इसके अलावा खीरा त्वचा को सनबर्न से भी बचाता है। खीरे में मौजूद एस्कोरबिक एसिडकैफीक एसिड पानी की कमी (जिसके कारण आंखों के नीचे सूजन आने लगती है।) को कम करता है।

        कैंसर से बचाए:                                                                                



खीरा के नियमित सेवन से कैंसर का खतरा कम होता है। खीरे में साइकोइसोलएरीक्रिस्नोल, लैरीक्रिस्नोल और पाइनोरिस्नोल तत्व होते हैं। ये तत्व सभी तरह के कैंसर जिनमें स्तन कैंसर भी शामिल है के रोकथाम में कारगर हैं।

        पेट के रोगों में फायदेमंद:                                                                    



खीरे का नियमित सेवन से पेट में होने वाली परेशानियों से छुटकारा मिलता है। जिनको परेशानी होती है, वो दही में खीरे को कसकर उसमें पुदीना, काला नमक, काली मिर्च, जीरा और हींग डालकर रायता बनाकर खाएं इससे उन्हें काफी आराम मिलेगा । बालम खीरे का रस 2-4 बूंद की मात्रा में गर्म पानी में डालकर पेट दर्द से पीड़ित रोगी को पिलाने से दर्द ठीक होता है।

        मधुमेह व रक्तचाप में फायदेमंद:                                                            





मधुमेह व रक्तचाप की समस्या से बचने के लिए नियमित रुप से खीरे का सेवन फायदेमंद हो सकता है। खीरे के रस में वो तत्व हैं जो पैनक्रियाज को सक्रिय करते हैं। पैनक्रियाज सक्रिय होने पर शरीर में इंसुलिन बनती है। इंसुलिन शरीर में बनने पर मधुमेह से लड़ने में मदद मिलती है। खीरा खाने से कोलस्ट्रोल का स्तर कम होता है। इससे हृदय संबंधी रोग होने की आशंका कम रहती है। खीरा में फाइबर, पोटैशियम और मैगनीशियम होता है जो ब्लड प्रेशर दुरुस्त रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। खीरा हाई और लो ब्लड प्रेशर दोनों में ही एक तरह से दवा का कार्य करता है।

        वजन कम करने में मददगार:                                                                



जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, उन लोगों के लिए खीरे का सेवन काफी फायदेमंद रहता है। खीरे में पानी अधिक और कैलोरी कम होती है, इसलिए वजन कम करने के लिए यह अच्छा विकल्प हो सकता है। जब भी भूख लगे तो खीरे का सेवन अच्छा हो सकता है। सूप और सलाद में खीरा खाएं। खीरा में फाइबर होते हैं जो खाना पचाने में मददगार होते हैं। स्विमिंग करने से पहले या बाद में अपने प्रॉब्लम एरिया पर इसके कुछ टुकड़े मलने से वजन तेजी से घटता है। खीरा से थकान कम होती है|

        आंखों के लिए लाभकारी:                                                                    



अक्सर फेसपैक लगाने के बाद आंखों की जलन से बचने के लिए खीरे को स्लाइस की तरह काटकर आंखों की पलक के ऊपर पर रखते हैं। इससे आंखों को ठंडक मिलती है। खीरा की तासीर जलन कम करने की होती है। जरूरी नहीं है कि सिर्फ फेसपैक लगाने के बाद ही ऐसा कर सकते हैं। जब भी आंखों में जलन महसूस हो तो आप खीरे की मदद ले सकते हैं। खीरे के रस में रूई को भिगोकर पलकों और आंखों के आस-पास कुछ देर तक रखें और फिर साफ कर लें। इसका प्रयोग करने से 2 से 3 सप्ताह में ही आंखों के नीचे व आस-पास के काला घेरा दूर होता है।

        मसूडे स्वस्थ रखता है:                                                                       



खीरा खाने से मसूडों की बीमारी कम होती हैं। खीरे के एक टुकड़े को जीभ से मुंह के ऊपरी हिस्से पर आधा मिनट तक रोकें। ऐसे में खीरे से निकलने वाला फाइटोकैमिकल मुंह की दुर्गंध को खत्म करता है। होंठ कटने-फटने पर खीरे का पानी लगाना लाभकारी होता है। इससे होंठ का कटना-फटना ठीक होता है। यह हाथ-पैर के फटने पर भी प्रयोग किया जा सकता है।

        जोड़ों की दवा:                                                                                  



खीरे में सीलिशिया प्रचुर मात्रा में होता है। इससे जोड़ों को मजबूती मिलती है और टिशू परस्पर मजबूत होते हैं। गाजर और खीरे का जूस मिलाकर पीने पर गठिया बाय रोग में मदद मिलती है। इससे यूरिक एसिड का स्तर भी कम होता है। गठिया के दर्द से पीड़ित रोगी को खीरा अधिक मात्रा में खाना चाहिए। इससे गठिया का दर्द ठीक होता है। घुटनों में दर्द होने पर भोजन के साथ खीरे का सलाद बनाकर खाना चाहिए। इससे घुटनों का दर्द ठीक होता है। यदि सलाद में एक लहसुन का टुकड़ा भी ले तो ज्यादा लाभकारी होता है।

        पथरी निकाले:                                                                                   



खीरे प्रयोग से कब्ज दूर होती है। यह पीलिया रोग, प्यास, ज्वर एवं शरीर की जलन व गर्मी के सारे दोषों को दूर करता है। खीरे से शरीर में पानी की मात्रा बढ़ती है। खीरे का रस पथरी रोग में लाभदायक होता है इसका रस 250 ग्राम दिन में तीन बार पीना चाहिए। खीरे के रस को स्वादिष्ट बनाने के लिए एक चम्मच शहद और आधा नींबू मिलाकर लेना चाहिए। । पथरी होने पर खीरे का रस निकालकर पीने से पथरी गलकर निकल जाती है। खीरे का रस 250 मिलीलीटर की मात्रा में दिन में 3 बार पीने से पेशाब की जलन व रुकावट दूर होती है। यह मधुमेह के रोगियों के लिए भी लाभकारी है।

        रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाए :                                                               



खीरे में नमी की मात्रा काफी होती है इसलिए यह त्वचा और शरीर दोनों को स्वस्थ रखती है। इसे रोज खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। सर्दी और जुकाम जैसी बीमारी दूर रहती है। गर्मियों में शरीर के तापमान को एक समान रखने के लिए खीरा और अजवाइन का रस पीएं। बुखार होने पर भी खीरे का जूस फायदेमंद है।

        चेहरे की सुन्दरता के लिए :                                                                       



2 चम्मच खीरे का रस, आधा चम्मच नींबू का रस और चुटकी भर हल्दी मिलाकर पेस्ट बना लें। यह पेस्ट प्रतिदिन आधे घंटे तक चेहरे पर लगाएं और फिर चेहरे को पानी से धोएं। इससे चेहरे का रंग गोरा होता है और दाग-धब्बे भी समाप्त होते हैं। तो आम सा दिखने वाला खीरा कई गुणों से भरपूर होता है। तो, बिना देर किए आप खीरे को अपने आहार और सलाद का हिस्‍सा बनाइए। 100 ग्राम खीरे के टुकड़े करके 500 मिलीलीटर पानी में उबाल लें और जब उबलते हुए पानी आधा बच जाए तो पानी को उतार हल्का ठंडा होने पर चेहरे को धोएं। इससे चेहरे का सांवलापन दूर होता है।

        चेहरे पर झांईयां होना:                                                                              



खीरे के 4 फाकों को पीसकर उनका रस निकाल लें और फिर उसमें आधा चम्मच नींबू का रस व आधा चम्मच गुलाबजल मिलाकर 15 मिनट तक चेहरे पर लगाएं। इससे चेहरे की झाईया दूर होती है और तैलीय त्वचा में चमक आती है। खीरा खाने से त्वचा के सभी रोग दूर होते हैं। एक कप खीरे का रस, एक कप गर्म पानी, चौथाई चम्मच बोरिक एसिड पॉउडर, चौथाई कप ग्लिसरीन, एक छोटा चम्मच बेंजाइन टिचर। इन सभी को मिलाकर लेप बनाए और त्वचा पर लगाएं। इसे लगाने से त्वचा मुलायम व साफ होती है।

        कुछ सावधानियाँ :                                                                                          



ü खीरा कभी भी बासी न खाएं।
ü जब भी खीरा खरीदें यह जरूर देख लें कि वह कहीं से गला हुआ न हो।
ü खीरे का सेवन रात में न करें। जहां तक हो सकेदिन में ही इसे खाये।
ü खीरे के सेवन के तुरंत बाद पानी न पियें।

Show Comments: OR
Comments
0 Comments
Facebook Comments by

0 comments:

Post a Comment